Posts Tagged ‘love poem’

 

man_sitting_alone_facing_the_world

सांस लेते हुए भी अब घबराते है हम,
ना जाने कौन सी हवा तुम्हारी खुशबु ले आये…

सुनते थे बेसुध होकर जो तराने, अब सुनते हुए डरते है हम,
ना जाने कौन सी धुन तुम्हारे पायलों की छनक ले आये…

जिन किताबो को गले से लगाये रखते थे कभी, उन्हें छुपा दिया है कहीं,
ना जाने कौन सा पन्ना तुम्हारी कहानी ले आये…

लिखा करते थे बेपरवाह हो कर जिन डायरियों में ज़िन्दगी का हिसाब,
कलम लगा कर अलमारी में दबा दिया है कहीं,
ना जाने कौन सी तारीख पर तुम्हारा दिया हुआ सुखा फूल मिल जाए…

रातों को छत पर जाकर आसमान देखते डरते है हम,
ना जाने किस तारे में तुम्हारे आँखों की चमक दिख जाये…

सब कर के देख लिया, हर मुमकिन कोशिश कर ली,
पर जब भी आँखे बंद करते है हम,
ना जाने कैसे तुम्हारी यादों का पिटारा खुल जाता है…

और फिर बस यही लगता है की कभी ना खुले ये आँखे,
हम जीते रहे यूँ ही तुम्हारी यादों के साथ…

जीने मरने का फर्क अब समझ नहीं आता,
आँखे खोल दिन भर मरते है हम,
और रात भर उन्हें बंद कर ज़िन्दगी जीते है हम…

फिर भी यही सोच कर साँसे रोक नहीं पाते,
ना जाने कौन सा लम्हा तुम्हे वापस मेरे आगोश में ले आये.

Advertisements

blogadda

pyaar ka matlab

वो पूछते रहे रात भर प्यार का मतलब हमसे,
करते रहे पढ़ने की कोशिश अनपढ़ी किताब…

हम भी रात भर घोंटते रहे गला अपने चीखते हुए दिल का,
डरते रहे निकल न जाये कही वो बात अनकही…

प्यार और दिल का न जाने ये कैसा अजीब रिश्ता है,
कभी कोई शैतान तो कोई फरिश्ता है…

ज़िन्दगी में फैसले बड़े कठिन लगे हमें,
कभी आग में जले तो कभी अँधेरे में थमे…

फिर न जाने ये ज़िन्दगी कैसे मोड़ पर ले आई,
हमारे अंदर कश्मकश ने कैसी आंधी सी मचाई…

तबाह हुए ऐसे की फिर संभल न सके,
अपने प्यार का मतलब दिल के तूफानों से बचा न सके…

मन की संवेदना सब शून्य हो चुकी है,
लफ्ज़, अल्फाज़ो की बस राख सी बची है…

तुम्हे क्या समझाते की जो खुद समझ ना सके हम,
बस कहते रहे की अब हमारे प्यार का मतलब हो बस तुम…

तुम जिसे हमने प्यार का मतलब बनाया,
और अपने प्यार का मतलब भी बस तुम्ही से पाया.

 

1230232871
हम रोज़ तलाश करते है,
वो हंसी मज़ाक में लिपटी रातें…
वो खिलखिलाहटों की लड़ी,
वो ख़ुशी से निकलता प्यार…
जब हँसते हुए आँखे नम थी पड़ी हमारी,
जब ख़ुशी से साँसे फूली हुई थी तुम्हारी…
वो नुक्कड़ के पत्थर पर देर रात तक गप्पे मारना,
वो दुसरो की नक़ल उतारना वो फालतू की बातें बनाना…आज भी जब उस नुक्कड़ से निकलते है,
वो पत्थर तुम्हे आवाज़ लगाते है…वो रातें उदास सी आज भी तुम्हारी राह तकती है…वो छूटे हुए मोड़ आज भी तुम्हारी हंसी को तरसते है…हम ढूंढ़ते है आज भी ज़िन्दगी के लम्हों में उस सुकून की गूंज…

हम तलाशते है आज भी तेरी आँखों की चमक,
हर रात आसमानो में