Posts Tagged ‘life’

DLW_-_QU_stargas.179175147

 

All my fears washed away instantaneously, excitement filling its place. Like a small kid who found a new toy to play I started moving swiftly to the all sides of the cube to see all my memories. I was thrilled seeing it all. All of my life, my pride, my success, my regrets on everything. I was crying and smiling simultaneously, crashing on the floor exhausted by the overwhelming emotions brimming out of my eyes. The ceiling above me is now shining like a bright sky filled with stars.

“But where is the moon, why can’t I see Her?” I asked myself and started searching for my most desirable memories fanatically all around me. Her memories are no where to be found. I closed my eyes to find her, nothing but darkness.

“You are wasting your energy finding her here.” a little guy again materialized in my head,
“and stop calling me little guy, I am bigger than your grasp and imagination. Who do you think is pulling this show here”.

“OK, I apologize”, I plead to him in effort to make peace. “But please tell me why can’t I embrace her memories when this is only thing I yearn for.”

“Because you locked her up in a box and hid it in the deepest and darkest part of your mind. She is not free; you are suffocating her by holding too tight. You need to free her, so that she can come to you.”

He was right; it’s been 2 years already since I had any kind of interaction with her but never felt that she is away. I contemplated that I am incapable of embracing her memories and it can only bring ache.

“This is a self-inflicted pain that you are experiencing. You are the reason of all your miseries. Let her memories fly like she always wanted, it will bring serenity and peace to you. You must smile to feel the warmth and tenderness of her smile.”

My vision started getting blurred by the tears now filling my eyes. Voices and images started floating in the glass room filling it rapidly. I understood now, I was not imprisoned in that room, it was just that I pushed everything else to make place for her but never had guts to filled it, therefore living in a void space all this time. Glass boundaries started fading and the intensity of the yellowish tinge started increasing creating bright white light. I smiled and close my eyes as I dived into it.

“Hey, Bro. Wake up, it’s too late now. What happened to you?”, my room partner was shaking me violently.

I woke up and in the end found my self shirtless in the balcony of my flat. I asked him, “What exactly happened?”

“I don’t know, You were drinking lots of wine puffing lots of weed shouting that you will end world hunger and save the world from global warming and instantly went into the trance state. I thought you are asleep only to find you here in the morning. You were smiling and blabbering gibberish. Why you do such things?”

“Sometimes the only way to find yourself is to get completely lost.” I peacefully smiled at him and started picking bottles to find the leftovers.

The End

Advertisements

tulasi

 

बड़े ज़माने बाद मौका मिला फिर से नानी के घर जाने का,
यादें हुई ताज़ा फिर बचपन की और वो सफर जवानी का…

हर्ष उल्लास से भरा मन और दिल में फिर से जाएगा वो आवारापन…

जब हम पहुंचे वहाँ तो मंजर ही अलग था,
दरवाज़े टूटे हुए और पूरा घर खंडहर था…

आशाएं सब चूर हुई, पर तभी अचानक दिखा कुछ चमकता सुनहरा,
आँगन में आज भी खड़ा था वही पुराना तुलसी का चौरा…

नानी कहा करती थी, बेटा ये बुजुर्ग है हमारी,
इन्ही से रहती है घर में खुशियां सारी…

हमने सोचा इसी सहारे याद कुछ तो कर लेते है,
ज़िन्दगी के भूले लम्हों को चलो फिर से जी लेते है…

खेला करते थे हम क्रिकेट, बना इसी तुलसी के चौरे को विकेट…
माँ डंडा लिए हमें दौड़ाया करती थी, वो भगवान का है स्वरुप ये समझाया करती थी…

कार्तिक में नानी रोज़ तुलसी को दिया दिखाया करती थी,
और एकादशी में धूम धाम से शादी करवाया करती थी…

मगन हो हम पूरा दिन तुलसी का चौरा सजाया करते थे,
और शाम को शालिग्राम की बारात लाया करते थे…

माँ जिस तुलसी के चौरे पर जल रोज़ चढ़ाया करती थी,
वही तुलसी सूख आज सूरज से आग जलाया करती है…

खुद समय बन इतिहास बताता नानी वाला तुलसी का चौरा,
टूट फुट जर्जर हो चूका फिर भी बचपन दिखलाता नानी वाला तुलसी का चौरा…

इस नए दौर के चकाचौंध में सब भूल गए बीते कल को,
बाहर किया छोटे घर और उससे भी छोटे दिल से तुलसी के चौरे को…

इस आस का प्रयास है ये, रखे हम दिल में उस तुलसी की याद,
और सुनाये कहानी नयी पीड़ी को उनके आने के बाद.

dwand

लो फिर आ गया में कुरुक्षेत्र के मैदान में…
अपने कृष्ण के मोह में,
अपने कृष्ण के सम्मान में…

चारो और हाहाकार था मचा,
और में समय में पीछे हो चला…

था मैं शयनकक्ष के द्धार पर खड़ा,
दुर्योधन सिरहाने और अर्जुन पाँव था पड़ा…

आँखे खुली भगवान की जब,
देखा अर्जुन को पहले खड़ा तब…

भोले बनकर इच्छा पूछी,
जानते थे सब किसकी क्या है रूचि…

बातें निकली और तब आगे,
सुनता रहा मैं सब जागे-जागे…

धधक उठा मन, साँसे हुई अधूरी,
जब सुना की जायेंगे खुद पांडवो के साथ और दे दी दुर्योधन को सेना पूरी…

कही धमाका हुआ बड़ा,
मैं फिर से रण में हुआ खड़ा…

लाशें गिर रही चारो और हर क्षण,
युद्ध शुरू हुआ जो भीषण…

लिए तलवार शत्रु का सर काटने लगा,
न जाने कितने थे अपने और कौन कौन था सगा…

कभी लाशो पर चला, कभी खून सनी मिटटी पर गिरा,
पर अपने कर्म पर था मै अडिग खड़ा…

सामने दिखा तभी अर्जुन का रथ,
दिखा रहे जिसे मेरे कृष्ण पथ…

दिल और दिमाग का फिर द्वन्द – प्रतिद्वंद हुआ,
ऊठाऊँ उसपर शस्त्र मैं कैसे जिसको मेरे हरी ने छुआ…

घुटनो पर बैठ सर मैंने दिया झुका,
अब होगा बस वो जो मेरे भगवान ने कहा…

न जाने कितने बाण लगे, न जाने कितने भाले चुभे…
मैं गिरा हथियार अपने डाल,
वो अंतरद्वन्द था मेरा जिसने था किया मुझे निढाल…

बस मन में जागा एक ही सवाल,
क्यों ? आखिर क्यों कृष्ण तुमने हमारा किया ये हाल…

थे हम तो तुम्हे सबसे प्यारे,
फिर क्यों तोड़ दिए तुमने बंधन सारे…

है नहीं मुझको दुःख की मैं इस तरह मरूंगा,
बस तड़प रहा हूँ की मैं अनंतकाल इस अंतर्द्वंद में जलूँगा…

Chords and Rhythm

Posted: September 4, 2014 in Uncategorized
Tags: , , , , , , , , , , , ,
music-notes-1280x800-290x218


Chords of life on the rhythm of the world...
Plucked and pulled by all indecent and absurd...
 
Chasing mirage of hope,
Stretching all strands of rope...
 
Getting dunes of time,
Taking hits and saying 'I am fine'...
 
Grains of sand are fading so fast, 
Symphony of the past was all that last...
 
Clutching every notes that fell from my song,
Hard it is to tell, it will take how long...
 
Pressed by the emotion and forced for revelation,
Trying to create my world my nation...
 
Setting up the cello, tuning the guitar,
I will play the chords in all chaos and war...
 
Rhythm of my era will echo everywhere,
Body wither or die, spirit of my music will live forever.